वड्डियां लाईटां घुप्प हनेरा : सरकारी अनुमति के बिना चल रहा है SDM नंगल कार्यालय के बाहर करोड़ों रुपए के लेनदेन से जुड़ा यह धंधा, खूब इकट्ठे किये जा रहे है पैसे। पढ़ें सारी जानकारी ➡️ न्यूज Link न खुलने पर पहले 92185 89500 नम्बर को फोन में save कर लें।

28

0

Target News

नंगल । राजवीर दीक्षित

कानून को नहीं मानता ‘नोटरी’ पावर तो हो चुकी है खत्म लेकिन ठप्पे है चालू। खबर पंजाब के जिला रूपनगर के नंगल से है यहां की तहसील में करोड़ो रूपये के लेन-देन के कागजों को अब गलत तरीके से तस्दीक (अटेस्ट) किये जाने का मामला सामने आ रहा है।

इस काम को करने वाले वकील ने भी लाखों रुपए की कमाई की है, जबकि तहसील व एसडीएम कार्यालय तक के अधिकारियों को इस बात की जानकारी नही है।

लाखो रुपए के जाली स्टाम्प पेपर बेचने वाले घोटाले के मामले में कभी शर्मसार हो चुके नंगल एसडीएम व नंगल तहसील कार्यालय के बाद अब एक और हैरानी जनक मामला सामने आ रहा है।

इस घटना ने प्रदेश की भगवंत मान सरकार के अधिकारियों के काम करने के तरीके की नंगल में पोल खोल कर रख दी है।

नंगल तहसील में रोजाना होने वाले ‘नोटरी अटटेस्टेशन’ का मामला विवाद में आ गया है। पिछले कई महीनों से उपमंडल मजिस्ट्रेट के दफ्तर के बाहर बिना लाइसेंस अपना आफिस चला रहे कथित एक वकील की खत्म हुई ‘नोटरी अटेस्टेशन’ की पावर आने वाले दिनों में भी खूब सुर्खियां बन सकती है।

सूत्रों के अनुसार तहसील नंगल में बैठे उक्त एडवोकेट का लाइसेंस खत्म हुए कई महीने बीत चुके है लेकिन वह फिर भी धड़ाधड़ लोगो के लेनदेन के कीमती कागजो को तस्दीक करता जा रहा है।

News Fatafat: पंजाब कांग्रेस के नेता हुए आमने सामने, बजट से पहले सुक्खू सरकार पहुंचेगी अयोध्या, बी प्राक के कार्यक्रम में मंच ढहा, देखें Video  

जिसका कोई आधार नही है,क्योकि बिना नोटरी मंजूरी के वह कागज भी शक के दायरे में आ सकते है। सूत्रों के अनुसार वह इस काम के मनमर्जी के पैसे भी वसूल रहा है।

आपको बता दे इस सारे मामले की जानकारी एसडीएम मैडम अनमजोत कौर (पीसीएस) को भी न होने की बात कही गई है। बकायदा उन्होंने भी इस बात की पुष्टि की है।

शहर में समाज सेवा का दम भरने वाले उक्त एडवोकेट के नोटरी का लाइसेंस रद्द हुए करीब 4 से ज्यादा महीने हो चुके है व फिर भी लोगो के लेनदेन के कागजो को तस्दीक करता आया है।

आपको बता दें, सरकार की और से बाकायदा नोटिफिकेशन जारी कर नोटरी लाइसेंस को कुछ चुनिंदा लोगों को दिया जाता है। जब जब उक्त लाइसेंस की मियाद खत्म होती है उसे फिर से ‘रिन्यू’ करवाना होता है। जिसे नही करवाया गया है।

मामले की गंभीरता को देखते हुए नंगल की एसडीएम अमनजोत कौर ने जांच के हुक्म दिए है। फिलहाल उक्त वकील ने अपने पर लग रहे आरोपों को गलत बताया है।

आपको बता दे जल्द ही ‘द टारगेट न्यूज’ इस खबर को और विस्तार से आपके सामने पेश करेगा। जिसमें हम आपको बताएंगे किस तरह उक्त कथित वकील ने अपना साम्राज्य खड़ा किया है।

The Target News के Whatsapp ग्रुप में शामिल हों, फेसबुक, यू-ट्यूब, इंस्टाग्राम पर Page को Like OR Follow करें।