Zomato से Food आर्डर करना हुआ महंगा, हर आर्डर पर देने होंगे इतने रुपये | ➡️ न्यूज Link न खुलने पर पहले 92185 89500 नम्बर को फोन में save कर लें।

26

0

Target News

नई दिल्ली । राजवीर दीक्षित

फूड डिलीवरी प्लेटफॉर्म Zomato ने अपने ग्राहकों को एक बार और झटका देते हुए अपनी प्लेटफॉर्म फीस को बढ़ा दिया है।

कंपनी ने प्लेटफॉर्म से फूड ऑर्डर करने वालों के ऊपर प्लेटफॉर्म फीस को बढ़ाने का फैसला किया गया है। देश में कुछ मार्केट में प्लेटफॉर्म फीस 3 रुपये से बढ़ाकर 4 रुपये की गई है।

Video : ..लो जी हिमाचल में नए साल पर नई गारंटी CM व डिप्टी CM का नया एलान देखें

कंपनी ने अगस्त में शुरु किया था चार्ज लेना

अगस्त 2023 में कंपनी ने 2 रुपये प्लेटफॉर्म फीस चार्ज करना शुरु किया था, जिसको बाद में बढ़ाकर 3 रुपये कर दिया गया था।

नए साल की पूर्व संध्या पर जोमेटो ने कुछ बाजारों में अपने प्लेटफॉर्म शुल्क को स्थाई रुप से 9 रुपये प्रति ऑर्डर तक बढ़ा दिया था।

कंपनी के शेयर मंगलवार को तेजी के साथ खुले और सुबह 126 रुपये के आसपास थे।

पिछले साल अगस्त में जोमेटो ने अपने मार्जिन में सुधार करने के लिए दो रुपये का प्लेटफॉर्म शुल्क लगाया था। जिसे बाद में बढ़ाकर तीन रुपये कर दिया गया था।

अब 1 जनवरी से इसे फिर से बढ़ाकर 4 रुपये कर दिया। नया प्लेटफॉर्म शुल्क जोमेटो गोल्ड सहित सभी ग्राहकों पर लगाया गया है।

Video : ➡️ श्री आनंदपुर साहिब से लोकसभा चुनाव में BJP का उम्मीदवार लगभग तय, पूरी खबर देखने के लिए इस लिंक को Click करें।

न्यू ईयर पर हुए रिकॉर्ड तोड़ ऑर्डर

जोमेटो और उसके क्विक कॉमर्स प्लेटफॉर्म ब्लिंकिट में पिछले सालों की तुलना में नए साल की पूर्व संध्या पर अब तक के सबसे ज्यादा आर्डर और बुकिंग देखी गई।

जोमेटो के सीईओ दीपिन्द्र गोयल ने एक्स पर पोस्ट किया कि ‘हमने नए साल की पूर्व संध्या पर लगभग उतने ही आर्डर डिस्ट्रिब्यूट किए हैं जितने 15, 16, 17, 18, 19, 20 को मिलाकर किए थे। भविष्य को लेकर उत्साहित हूं।’

Zomato को मिल चुका है नोटिस

कंपनी को पिछले महीने प्लेटफॉर्म फीस को लेकर ही जीएसटी नोटिस मिल चुका है।

26 दिसंबर को 402 करोड़ की टैक्स लायबिलिटी के लिए कंपनी के पास नोटिस आया था।

इसमें कहा गया था कि 29 अक्टूबर 2019 से 31 मार्च 2022 के बीच डिलीवरी चार्जेज कलेक्ट किए गए, जिस पर कंपनी पर टैक्स लायबिलिटी बनती है।

हालांकि, कंपनी का कहना था कि उसपर टैक्स लायबिलिटी नहीं बन रही है और इस नोटिस को वो उचित जवाब देगी।

बता दें कि प्लेटफॉर्म फीस लगने के बाद और इसे बढ़ाए जाने पर पहले भी आर्डर के वॉल्यूम पर कोई असर नहीं पड़ा था।

यानी कि ग्राहकों ने प्लेटफॉर्म फीस लगने के बावजूद प्लेटफॉर्म से खाना ऑर्डर करना पहले जैसा ही जारी रखा।
ऐसे में, अगर डिलीवरी चार्ज कलेक्ट किए जाने पर टैक्स लायबिलिटी आती है तो कंपनी को उसे आंशिक रुप से ऑफसेट करने में मदद मिलेगी।