हरियाणा में किलेबंदी: पंजाब से ट्रैक्टर लेकर निकले किसान, रास्ते में.. कंटीले तार, सीमेंट के बैरिकेड..दिल्ली से बॉर्डर पर कड़ा पहरा ➡️ न्यूज Link न खुलने पर पहले 92185 89500 नम्बर को फोन में save कर लें।

14

0

Target News

चंडीगढ़ । राजवीर दीक्षित

किसान आंदोलन को लेकर पंजाब और हरियाणा में खाली हलचल है। दिल्ली कूच से रोकने के लिए हरियाणा पुलिस ने जबरदस्त सुरक्षा बंदोबस्त किए हैं।

हरियाणा-पंजाब बॉर्डर पर पुलिस ने सडक़ों को खोद दिया है। साथ ही कीलें और अन्य बंदोबस्त किए गए हैं।
दिल्ली से सटे हरियाणा, पंजाब और यूपी के बॉर्डर पर मुस्तैदी बढ़ा दी गई है। बार्डर को कटीले तार, सीमेंट के बैरिकेड से कवर किया जा रहा है।

फिलहाल, हरियाणा के 15 जिलों में धारा 144 लगाई गई है। इसी तरह सात जिलों में इंटरनेट सेवा को बंद किया गया है। राजधानी चंडीगढ़ में 60 दिन के लिए धारा 144 लगाई गई है।

जानकारी के अनुसार, पंजाब से किसानों की मूवमेंट शुरु हो गई है। पंजाब के ब्यास से बड़ी संख्या में किसान ट्रैक्टर ट्रालियां लेकर हरियाणा की तरफ निकले हैं।

ये किसान ब्यास पुल से फतेहगढ़ साहिब के लिए रवाना हुए हैं। इनके साथ किसान मजदूर संघर्ष कमेटी नेता सरवन सिंह पंधेर मौजूद हैं।

किसानों के आंदोलन के चलते हरियाणा सरकार ने बड़ा कदम उठाया है। सिरसा में चौधरी दलवीर सिंह इंडोर स्टेडियम और गुरु गोविंद सिंह स्टेडियम डबवाली को टेंपरेरी जेल बनाया गया।

किसानों को हिरासत में लेने के बाद जेल में शिफ्ट किया जा सकता है। हरियाणा पुलिस ने सोशल मीडिया पर गलत अफवाह फैलाने वालों को भी चेतावनी दी है।

हरियाणा सरकार ने 15 जिलों रोहतक, सोनीपत, झज्जर, जींद, कुरुक्षेत्र, कैथल, अंबाला, सिरसा, फतेहाबाद, हिसार, भिवानी और पंचकूला में धारा 144 लगाई गई है।

इसके अलावा 7 जिले अंबाला, कुरुक्षेत्र, कैथल, जींद, हिसार, फतेहाबाद, सिरसा और डबवाली में मोबाइल इंटरनेट बंद कर दिया गया है।

*टिकरी बार्डर पर कंटीली तारें, लोहे और सीमेंट के भारी भरकम बैरीकेड

हरियाणा और दिल्ली के टिकरी बार्डर पर कंटीली तारें, लोहे और सीमेंट के भारी भरकम बैरीकेड लगाए गए हैं।

चरखी दादरी में भाकियू लोकशक्ति ने प्रदेशाध्यक्ष जगबीर घसोला की अगुवाई में किसानों ने मीटिंग की और 13 फरवरी को दादरी से ट्रैक्टरों के साथ दिल्ली कूच करेंगे।

किसानों ने आंदोलन को आगे बढ़ाने के लिए पंचायतों से भी समर्थन मांगा है। किसानों के आंदोलन के चलते केंद्रीय मंत्री सोमवार को चंडीगढ़ आ सकते हैं।

बताया जा रहा है कि पीयूष गोयल किसानों के नेताओं से मीटिंग करेंगे। इससे पहले भी वह चंडीगढ़ में किसानों से मीटिंग कर चुके हैं।

बीते रोज पंजाब के मुख्यमंत्री की पहल के बाद तीन मंत्रियों के साथ यह मीटिंग हुई थी।

हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर ने प्रदेश में पुलिस की सख्ती और इंतजाम को जायज ठहराया और कह कि दिल्ली जाना है तो दूसरी यातायात सुविधाएं हैं।

बस, ट्रेन के जरिए दिल्ली जा सकते हैं। यह लोकसंत्र में सही तरीका नहं है। वहीं, हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज ने कहा कि किसी को भी कानून व्यवस्था हाथ में नहीं देने देंगे। अपने प्रदेश की रक्षा करेें।

*पुलिस ने जारी की ट्रैफिक एडवाइजरी

दिल्ली-चंडीगढ़ हाइवे पर यातायात बाधित होने की स्थिति में चंडीगढ़ से दिल्ली जाने वाले यात्रियों को डेराबस्सी, बरवाला/रामगढ़, साहा, शाहबाद, कुरुक्षेत्र के रास्ते अथवा पंचकूला, एनएच-344 यमुनानगर इंद्री/पिपली, करनाल होते हुए दिल्ली जाने की सलाह दी गई है।

इसी प्रकार, दिल्ली से चंडीगढ़ जाने वाले यात्री करनाल, इंद्री/पिपली, यमुनानगर, पंचकूला होते हुए अथवा कुरुक्षेत्र, शाहबाद, साहा, बरवाला, रामगढ़ होते हुए अपने गंतव्य पर पहुंच सकते हैं।

*इन सुविधाओं पर भी लगाई गई रोक

वाटर कैनन और वज्र वाहनों को तैनात किया गया है। वाहनों की आवाजाही में बाधा डालने के लिए घग्गर नदी के तल की खुदाई की गई है।

हरियाणा सरकार ने 11 से 13 फरवरी तक अंबाला, कुरुक्षेत्र, कैथल, जिंद, हिसार, फतेहाबाद और सिरसा समेत सात जिलों में मोबाइल इंटरनेट सेवाएं और बल्क एसएमएस सेवा निलंबित कर दी गई है।

  • The Target News के Whatsapp ग्रुप में शामिल हों, फेसबुक, यू-ट्यूब, इंस्टाग्राम पर Page को Like OR Follow करें। ➡️ ➡️ खबर का Link न खुलने पर 92185 89500 नम्बर को तुरंत फोन में सेव करें। Click करें