भाई के खिलाफ भाई उम्मीदवार! लुधियाना में रवनीत बिट्टू के सामने कांग्रेस ने शुरू की गुरकीरत कोटली को उतारने की तैयारी, 2 बार के विधायक रहे है।

[google-translator]

The Target News

लुधियाना । राजवीर दीक्षित

खबर पंजाब के लुधियाना से है यहां पूर्व कैबिनेट मंत्री भारत भूषण आशु को लोकसभा टिकट देने का पूर्व विधायक विरोध कर रहे हैं।

इस बीच खन्ना से दो बार विधायक और पूर्व कैबिनेट मंत्री रहे गुरकीरत सिंह कोटली का नाम अब चर्चा में आ गया है।

अगर कांग्रेस हाईकमान कोटली को लोकसभा का टिकट देकर उम्मीदवार बनाती है तो शहर की राजनीति के समीकरण काफी बदल जाएंगे। लोग एक भाई को दूसरे भाई के खिलाफ चुनाव लड़ते देखेंगे। जिनका मुकाबला भी रोचक होगा।

देखें Video: केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी महाराष्ट्र में दे रहे थे भाषण, अचानक बिगड़ी तबीयत, बेहोश हुए

गुरकीरत सिंह कोटली पूर्व सीएम स्व. बेअंत सिंह परिवार से हैं व पूर्व कैबिनेट मंत्री तेजप्रकाश सिंह के पुत्र है। वह बीजेपी प्रत्याशी रवनीत सिंह बिट्टू के चचेरे भाई भी हैं।

गुरकीरत की कांग्रेस आलाकमान में अच्छी पकड़ है। उन्हें राहुल गांधी का भी खास करीबी माना जाता है।

➡️ लड़की पर हमले का Video देखने के लिए इस Link को Click करें।

पूर्व मुख्यमंत्री स्व. बेअंत सिंह के नाम पर लोगों से वोट बटोरने के लिए बीजेपी बिट्टू को टिकट दे सकती है तो बेअंत सिंह के नाम पर अपना वोट बैंक बचाने के लिए कांग्रेस कोटली पर दांव खेलने को तैयार है।

गुरकीरत सिंह कोटली के पिता तेजप्रकाश सिंह कोटली पायल से विधायक व वह कैप्टन सरकार में पूर्व परिवहन मंत्री भी रह चुके हैं।

पढ़े गुरकीरत कोटली के बारे में

गुरकीरत बेअंत सिंह परिवार की तीसरी पीढ़ी से आते हैं जो 1969 से पंजाब की राजनीति में सक्रिय हैं।

2012 में खन्ना से और फिर 2017 में पंजाब विधानसभा के लिए कोटली चुने गए। कोटली पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री स्वर्गीय बेअंत सिंह के पोते हैं, उन्होंने 1992 में युवा कांग्रेस नेता के रूप में अपना राजनीतिक करियर शुरू किया था।

गवर्नमेंट कॉलेज, सेक्टर-11, चंडीगढ़ , कोटली से BA की है। वह कांग्रेस की और से हिमाचल के प्रभारी भी रहे है।

उनके परिवार का पैतृक गांव लुधियाना के पायल निर्वाचन क्षेत्र में कोटला अफगाना है, जहां से तेज प्रकाश दो बार विधायक रहे हैं।

पायल को ‘आरक्षित’ निर्वाचन क्षेत्र के रूप में अधिसूचित किए जाने के बाद गुरकीरत ने अपना पहला विधानसभा चुनाव लुधियाना के खन्ना निर्वाचन क्षेत्र 2017 में लड़ा और जीते।