Sidhu Moosewala के मर्डर के 2 साल बाद हुआ ये बड़ा खुलासा ➡️ न्यूज Link न खुलने पर पहले 92185 89500 नम्बर को फोन में save कर लें।

13

0

Target News

बठिंडा । राजवीर दीक्षित

पंजाबी सिंगर शुभदीप सिंह सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड में 2 साल बाद बड़ा खुलासा हुआ है। शूटरों ने गायक पर फायरिंग करने से पहले सुनसान जगह पर एके-47 चलाकर चेक की।

गैंगस्टरों ने ग्रेनेड लॉन्चर भी चलाया, लेकिन उसमें वह सफल न हुए। बदमाशों ने मूसेवाला को मारने के लिए पुलिस कर्मी बनने की भी प्लानिंग की थी, लेकिन दो महिलाएं न मिलने के कारण इस प्लान को बदमाशों ने मौके पर बदल दिया।

➡️ भाखड़ा नहर में गिरा LPG गैस सिलेंडर से भरा ट्रक, देखें Video इस लिंक को Click करें ।

हत्याकांड में शूटर केशव निवासी आवा बस्ती बठिंडा ने पुलिस पूछताछ में बताया कि मूसेवाला की हत्या से पहले प्रियवर्त फौजी, दीपक मुंडी सहित अन्य सभी आरोपी डबवाली के गांव सकता खेड़ा खेतों में सुनसान जगह पर एके-47 सहित पिस्टलों को चलाकर चेक करके गए थे।

प्रियवर्त फौजी और दीपक मुंडी ने ग्रेनेड लॉन्चर चलाकर चेक करने की कोशिश की थी, लेकिन आरोपियों से ग्रेनेड चला नहीं, जिस कारण फौजी ने उसे पैक करके रख दिया।

फर्जी पुलिस कर्मी बनकर करनी थी वारदात

सिंगर मूसेवाला के पास भारी सुरक्षा फोर्स रहती थी, जिस कारण गैंगस्टर गोल्डी बराड़ ने गैंगस्टरों को बड़ी संख्या में पिस्टल और एके-47 दी थी।

बदमाशों ने योजना बनाई थी कि गैंगस्टर जग्गू भगवानपुरिया के शूटर मनप्रीत सिंह, जगरुप रुपा सहित 3 अन्य युवक फर्जी पुलिस कर्मी बनकर मूसेवाला के घर जाएंगे।

बदमाशों ने बाकायदा पुलिस की वर्दी तक खरीद ली थी। पुलिस वर्दी का पूरा सामान और दो महिलाएं न मिलने के कारण आरोपियों ने इस प्लान को मौके पर रद्द कर दिया था।

गोल्डी बराड़ ने दो फर्जी लड़कियां तैयार की थीं, जिन्होंने पुलिस कर्मचारियों के साथ फर्जी पत्रकार बनकर मूसेवाल के घर दाखिल होना था।

फतेहाबाद से आए शूटर

इसके बाद जब मूसेवाला की पुलिस सुरक्षा हटा दी गई तो गैंगस्टर गोल्डी बराड़ ने आरोपी केशव को फोन करके कहा था कि अब मूसेवाला के साथ पुलिस सुरक्षा नहीं है, तुम फतेहाबाद जाकर सभी साथियों को मानसा लाओ।

इसके बाद केशव बाइक पर फतेहाबाद गया और अपने सभी साथियों के साथ मानसा आया था।

आरोपी ने अपनी बाइक आगे लगाई, जबकि दूसरे साथी उसके पीछे गाडिय़ां लेकर पहुंचे थे।

सूत्रों के मुताबिक, जब फर्जी पुलिस वाले बनकर लड़कियों को बतौर पत्रकार योजना में शामिल कर मूसेवाला की हत्या करने की योजना बनाई तो रात को सभी आरोपी डबवाली के गांव सकता खेड़ा के खेतों में सुनसान जगह पर एक कमरे में रुके थे।

वहां पर सभी आरोपियों ने अपने-अपने पिस्टल और एके-47 को चलाकर चेक किया था।

हथियार चला कर चेक करने के बाद अगले दिन सुबह 5 बजे आरोपी खेतों से निकलकर मानसा की ओर चल पड़े थे।

स्कॉपियो और बोलेरो में सवार थे शूटर

केशव द्वारा पुलिस को बताए अनुसार, जब सभी आरोपी खेतों से निकलकर मानसा की तरफ चले तो स्कॉर्पियो में 3 पंजाबी लडक़े और शूटर मनप्रीत सिंह मन्ना और जगरुप रुपा भी थे।

जबकि, दूसरी बोलेरो गाड़ी में प्रियवर्त फौजी, केशव, दीपक मुंडी, कशिश उर्फ कुलदीप और अंकित सवार थे।
दोनों गाडिय़ां डबवाली से ही अलग हो गई थीं। क्योंकि स्कॉर्पियो गाड़ी सवार लडक़े पुलिस की वर्दी पूरा करने के लिए सामान लेने की कहकर चले गए थे।

हत्याकांड में कुल 31 आरोपी है शामिल

कुल 31 आरोपियों में से पुलिस ने 29 को गिरफ्तार किया था। लेकिन उनमें से दो मनदीप सिंह और मनमोहन सिंह तरनतारन जिले की गोइंदवाल जेल में हुई झड़प में मारे गए थे।

अमृतसर जिले के गांव भकना में जगरुप सिंह रुपा और मनप्रीत सिंह मन्नू खोसा का पुलिस ने एनकाउंटर कर दिया था।

गोल्डी बराड़, लिपिन नेहरा, अनमोल बिश्नोई, लॉरेंस के भाई और उनके भतीजे सचिन बिश्नोई थापन विदेश में बैठे हैं।

29 मई 2022 को हुई थी सिद्धू मूसेवाला की हत्या

सिद्धू मूसेवाला के नाम से मशहूर शुभदीप सिंह सिद्धू की 29 मई 2022 को पंजाब के मानसा जिले में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी।

पंजाब सरकार के मुताबिक इस मामले में अब तक 29 लोगों को गिरफ्तार किया गया है, दो आरोपी मुठभेड़ में मारे गए और 5 को भारत में बाहर से लाया जाना है।

इसके लिए राज्य सरकार केंद्र और अन्य एजेंसियों के संपर्क में हैं। सिद्धू मूसेवाला की हत्या के मामले में मुख्य आरोपी गैंगस्टर लारेंस बिश्नोई गैंग का गोल्डी बराड़ है।

  • The Target News के Whatsapp ग्रुप में शामिल हों, फेसबुक, यू-ट्यूब, इंस्टाग्राम पर Page को Like OR Follow करें। ➡️ ➡️ खबर का Link न खुलने पर 92185 89500 नम्बर को तुरंत फोन में सेव करें। Click करें