NIA के पास पहुंचा हिंदू नेता विकास बग्गा की हत्या की मामला, विदेशी फंडिंग की भी जांच होगी।

[google-translator]

The Target News

नंगल । राजवीर दीक्षित

नंगल में हिंदू नेता विकास प्रभाकर उर्फ विकास बग्गा की हत्या में विदेशी हैंडलर्स की संलिप्तता की गंभीरता को देखते हुए पंजाब सरकार ने अब इस हत्याकांड की जांच एनआईए से कराने का फैसला किया है।

विकास प्रभाकर हत्याकांड के दोनों आरोपियों को हाल ही में नवांशहर के पास सलो गांव से पकड़ा गया था। दोनों आरोपी फिलहाल नंगल पुलिस के पास छह दिन के रिमांड पर हैं।

गौरतलब है कि हिंदू परिषद के अध्यक्ष विकास प्रभाकर की नंगल रेलवे रोड स्थित उनकी दुकान में दो युवकों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी।

एसएसपी गुरनीत खुराना की अगुवाई में गठित पुलिस टीम ने सीसीटीवी फुटेज के आधार पर तीन दिन में कथित आरोपी को पकड़ लिया। पुलिस ने मनदीप सिंह उर्फ मंगी और सुरिंदर उर रिक्का को गिरफ्तार कर उनके पास से पिस्तौल और 16 कारतूस बरामद किए।

विश्वस्त सूत्रों के मुताबिक हत्या के लिए एक लाख रुपये की डील हुई थी, जिसमें 73 हजार रुपये बरामद भी हो गये हैं। पुलिस अधिकारियों का मानना है कि हमलावरों को पुर्तगाल और अन्य देशों से फंडिंग और ड्रग्स मिल रहे थे, इसे गंभीरता से लेते हुए पंजाब सरकार ने इस हत्याकांड की जांच एनआईए को सौंप दी।

आज पंजाब पुलिस वेलफेयर एसोसिएशन पंजाब के प्रदेश अध्यक्ष और ऑल इंडिया एंटी क्राइम फ्रंट पंजाब के वरिष्ठ उपाध्यक्ष राजिंदर कुमार (पूर्व डीएसपी एडवोकेट) ने विकास के परिवार के साथ अपना दुख साझा किया और विकास की 13 तथा डेढ़ साल की बेटियों की सुरक्षा के लिए एक करोड़ रुपये की राशि तथा पत्नी को हेल्थ विभाग का अनुभव होने के चलते हेल्थ विभाग में नौकरी की बात कही। उन्होंने इस हिंदू नेता को शहीद का दर्जा देने की मांग की।

उन्होंने कहा कि मोर्चा इस परिवार के लिए हर वक्त खड़ा है। उन्होंने कहा कि यह हत्या हिंदुओं में भय पैदा करने की सोची-समझी साजिश के तहत हुई है।