…लो जी गुपचुप बैठक में फैसला, कांग्रेस उम्मीदवार सिंगला को हराने के लिए अपनो ने ही लगाई ‘फील्डिंग’, जानकारी सामने आते ही पार्टी में हड़कंप।

The Target News

चंडीगढ़/श्री आनंदपुर साहिब । राजवीर दीक्षित

श्री आनंदपुर साहिब लोकसभा में कांग्रेस को लेकर बड़ा सियासी घटनाक्रम सामने आ रहा है।

यहां से चुनाव लड़ रहे उम्मीदवार विजय इन्द्र सिंगला को लोकसभा के कई इलाको में कांग्रेसी नेता सहयोग नही कर रहे है। जिसका कारण चुनावी फंडिंग,प्रतिष्ठा व धड़ेबाजी बताया जा रहा है।

श्री आनंदपुर साहिब में लोकसभा उम्मीदवार की हालत हर दिन के साथ बेहतर हो रही थी कि अचानक अब कांग्रेसियों ने चुनाव से दूरी बना ली है।

सूत्र बताते है कि विजय इन्द्र सिंगला को वापिस भेजने की तैयारी में पार्टी के ही एक खेमे ने गुपचुप बैठक कर राजनीतिक फील्डिंग लगानी शुरू की है। इस बैठक में 2 पूर्व विधायकों के साथ साथ दर्जन भर कुछ और वर्कर भी शामिल रहे है।

दम तोड़ गई AAP सरकार की SSF मुहिम, नंगल में सड़क हादसे के बाद नही पहुंची टीम, युवक की मौत, पढ़ें

जानकारी कांग्रेस खेमे में बाहर आते ही पार्टी हड़कम्प मचा हुआ है। इस मामले को दबाने के लिए अब इस बात का प्रचार शुरू किया गया है कि सिंगला चुनाव में पैसा नही खर्च रहे या वह ऐसे लोगो को तरजीह दे रहे है जिनका वजूद नही है। जिससे बड़े नेताओं की प्रतिष्ठा दांव पर लगी है।

सूत्रों के अनुसार विजय इन्द्र सिंगला के आने के बाद आम आदमी पार्टी आश्वस्त हो गई थी कि उनकी जीत निश्चित है, क्योकि अब बाहरी उम्मीदवार को कांग्रेसियों से सहयोग नही मिलेगा।

श्री आनंदपुर साहिब से सियासी भगोड़े हुए कांग्रेस के सांसद मनीष तिवारी की चंडीगढ़ में हुई चुनावी रैली में सचमुच ‘धक्का’ हो गया। देखें वीडियो

इसके बाद जिस तरीक़े से अचानक सिंगला ने हर दिन के साथ लोकसभा में बढ़त बनाई और लोगों को अपने साथ जोड़ा, उससे आप सरकार के साथ साथ पार्टी के कुछ कांग्रेसी बागी नेताओं ने भी अजीब सी चिंता महसूस की है। यह लोग अब भीतरघात करने की तैयारी में है।

2 दिन पहले हुई कुछ कांग्रेसियों की उक्त गुप्त मीटिंग में यह चर्चा हुई है कि अगर सिंगला इस लोकसभा से जीतते है तो उनका राजनीतिक भविष्य हाशिये पर आ जायेगा।

इस घटना के बाद से अब कई वर्कर प्रचार-प्रसार से दूरी बना रहे है। जिसका सीधा सीधा असर इलाके में देखने को मिल रहा है।

आपको बता दे कांग्रेस का श्री आनंदपुर साहिब लोकसभा में अच्छा प्रभाव रहा है। अब अगर कांग्रेस यह सीट हारती है तो यकीनन इसे किसी बड़ी साजिश से जोड़ कर देखा जा सकता है। पार्टी हाईकमान तक भी उक्त मामले को एक प्रदेश के सचिव ने पहुंचाया है।