योग से निरोग रहने की बात करने वाले बाबा को सुप्रीम कोर्ट की फटकार, पतंजलि ने कहा- 67 अखबारों में माफीनामा छपवाया, अदालत ने पूछा- साइज विज्ञापन जैसा है क्या, कटिंग भेजिए।

[google-translator]

The Target News

नई दिल्ली । राजवीर दीक्षित

कुछ भी विज्ञापन देकर अपना सामान बेचने वाले पतंजलि को लेकर आज सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई चल रही है।

जस्टिस हिमा कोहली और जस्टिस अमानतुल्लाह की बेंच में पतंजलि की ओर से एडवोकेट मुकुल रोहतगी ने कहा- हमने माफीनामा फाइल कर दिया है। इसे 67 अखबारों में पब्लिश किया गया है।

जिसके बाद अदालत जस्टिस हिमा कोहली ने कहा- आपके विज्ञापन जैसे रहते थे, इस ऐड का भी साइज क्या वही था ?

उन्होंने कहा कृपया इन विज्ञापनों की कटिंग ले लें और हमें भेज दें। ध्यान रखे इन्हें बड़ा करने की जरूरत नहीं है। हम इसका वास्तविक साइज देखना चाहते हैं। ये हमारा निर्देश है।

जस्टिस कोहली ने कहा कि जब आप कोई विज्ञापन प्रकाशित करते हैं तो इसका मतलब यह नहीं कि हम उसे माइक्रोस्कोप से देखेंगे। सिर्फ पन्ने पर न हो पढ़ा भी जाना चाहिए।

कोर्ट ने रामदेव और बालकृष्ण को निर्देश दिया कि अगले दो दिन में वे ऑन रिकॉर्ड माफीनामा जारी करें, जिसमें लिखा हो कि उन्होंने गलती की। मामले की अगली सुनवाई अब 30 अप्रैल को होगी।

पतंजलि ने कहा है हम माफी मांगते हैं। भविष्य में कभी ऐसी गलती नहीं दोहराएंगे।