किसान संगठनों ने बीजेपी को घेरने के लिए तैयार की नई योजना, घेराबंदी की तैयारी, साइलो केंद्रों को लेकर किसानों ने दी ये राय

[google-translator]

The Target News

चंडीगढ़ । राजवीर दीक्षित

संयुक्त किसान मोर्चा से जुड़े पंजाब के 32 किसान संगठनों ने चुनाव प्रचार के दौरान बीजेपी का विरोध करने की रणनीति तैयार की है।

वोट मांगने आने वाले बीजेपी उम्मीदवारों और नेताओं की घेराबंदी तेज करने का फैसला किया है।

संयुक्त किसान मोर्चा की एक महत्वपूर्ण बैठक आज यहां किसान भवन में बलबीर सिंह राजेवाल, रवनीत सिंह बराड़ और जंगबीर सिंह चौहान की अध्यक्षता में हुई जिसमें पंजाब के 32 संगठनों ने भाग लिया।

8 अप्रैल को चंडीगढ़ में होने वाली रैली को स्थगित करने का निर्णय लिया गया, जो पंजाब सरकार द्वारा कॉरपोरेट्स के स्वामित्व वाले 9 साइलो को गेहूं खरीद केंद्र घोषित करने के फैसले के खिलाफ थी।

ऊना-नंगल-चंडीगढ़ मार्ग पर नशे में धुत्त ड्राइवर ने तोड़ दिया चौक, बड़ा हादसा सामने आया। देखें Video

बैठक में कहा गया कि किसान आंदोलन के दबाव में और आगामी लोकसभा चुनाव को देखते हुए सरकार ने 15 मार्च की अधिसूचना वापस ले ली है, लेकिन कृषि के निजीकरण और इसे कॉरपोरेट कंपनियों को सौंपने की तलवार लटकी रहेगी किसानों की गर्दन पर और जब तक यह नीति स्थायी रूप से माफ नहीं हो जाती।

मोर्चे के प्रमुख नेता बलबीर सिंह राजेवाल ने कहा कि एपीएमसी ने सरकार से निजी साइलो को बंद करने का स्थायी समाधान मांगा है। अधिनियम में आवश्यक संशोधन कर निजी खरीद केन्द्रों की स्थापना को प्रमाणित करने वाले प्रावधान को निरस्त किया जाये।

बैठक का यह भी विचार था कि वह भंडारण उद्देश्यों के लिए साइलो के विरोध में नहीं है, बशर्ते वे सरकार द्वारा स्वयं स्थापित किए गए हों।

उन्होंने कहा कि बैठक में 21 मई को जगराओं में होने वाली भाजपा विरोधी रैली को सफल बनाने का निर्णय लिया गया और किसानों को लामबंद करने के लिए राज्य में जोरदार अभियान चलाने का निर्णय लिया गया।

भाजपा प्रत्याशियों का विरोध करने और उन्हें हराने के लिए प्रश्नावली तैयार करने और पर्चा छपवाकर जनता के बीच बांटने का निर्णय लिया गया है।

इस संबंध में बलबीर सिंह राजेवाल, प्रेम सिंह भंगू, रवनीत सिंह बराड़, बलदेव सिंह निहालगढ़ और अंग्रेज सिंह की पांच सदस्यीय कमेटी बनाई गई है, जो 9 अप्रैल को चंडीगढ़ में बैठक कर इस काम को आगे बढ़ाएगी।