हिमाचल कांग्रेस के टिकट पर कल दिल्ली में मंथन: आज की मीटिंग स्थगित; मंडी,हमीरपुर और कुटलैहड़ से प्रत्याशी फाइनल, डिप्टी CM व मुख्यमंत्री के ऊपर जीत हार का दारोमदार

[google-translator]

The Target News

शिमला । राजवीर दीक्षित

तमाम राजनीतिक उथल पुथल बीच हिमाचल प्रदेश में चार लोकसभा और छह विधानसभा सीटों पर कांग्रेस जल्द प्रत्याशी उतारेगी।

टिकट फाइनल करने से पहले आज दिल्ली में पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव केसी वेणुगोपाल के घर पर दोपहर बाद चार बजे बुलाई गई मीटिंग कल तक स्थगित कर दी गई है। यह मीटिंग अब शनिवार सुबह 10.35 बजे होगी। सारे चुनावों का दारोमदार डिप्टी सीएम मुकेश अग्निहोत्री व मुख्यमंत्री सुखविन्दर सुक्खू पर है।

सूचना के अनुसार, मुख्यमंत्री सुखविंदर सुक्खू आज नादौन में एक कार्यक्रम में व्यस्त थे। इस वजह से आज की मीटिंग को स्थगित करना पड़ा। सीएम सुक्खू कल सुबह आठ बजे कांगड़ा से बाय-एयर दिल्ली जाएंगे, जबकि मुकेश अग्निहोत्री दिल्ली पहुंच चुके है और केसी वेणुगोपाल के घर पर कल होने वाली मीटिंग में शामिल होंगे। इसमें टिकट को लेकर मंथन होगा।

कल होने वाली मीटिंग में लोकसभा और विधानसभा उप चुनाव के लिए प्रत्याशियों के नाम पर सहमति बनाने का प्रयास होगा, ताकि सेंटर इलेक्शन कमेटी (CEC) मीटिंग में टिकट का ऐलान किया जा सके। फिलहाल मंडी से प्रतिभा सिंह और हमीरपुर से सतपाल रायजादा का नाम तय माना जा रहा है। मगर कांगड़ा और शिमला में अभी पेंच फंसा हुआ है।

शिमला में कांग्रेस BJP के दो बार से सांसद वीरेंद्र कश्यप को भी टिकट देना चाह रही है, लेकिन पार्टी को इनकी एंट्री से बगावत का भी डर है। वीरेंद्र कश्यप पर सहमति नहीं बनी तो दयाल प्यारी को टिकट मिलना लगभग तय माना जा रहा है। शिमला संसदीय क्षेत्र से अमित नंदा और पूर्व विधायक सोहन लाल भी टिकट की रेस में है।

कांगड़ा से पूर्व मंत्री एवं पांच बार की विधायक आशा कुमारी को टिकट का मजबूत दावेदार माना जा रहा है। मगर कांग्रेस पार्टी कांगड़ा जिला से लोकल प्रत्याशी देना चाह रही है कि क्योंकि कांगड़ा लोकसभा हलके में जिला के 13 विधानसभा क्षेत्र है। आशा कुमार चंबा जिला से संबंध रखती है और चंबा जिला की पांच से 4 विधानसभा सीटें ही कांगड़ा संसदीय हलके में है।

ऐसे में अब गेंद कांग्रेस हाईकमान के पाले में है। वैसे कांगड़ा से डॉक्टर राजेश शर्मा, करण पठानिया और CM सुक्खू के करीबी संजय चौहान भी टिकट की रेस में शामिल है।

अपने बेबाक बोल के कारण चर्चित हिमाचल प्रदेश के उपमुख्यमंत्री ने भाजपा को लेकर कही ये बड़ी बात, देखें वीडियो

बात करते है विधानसभा उप चुनाव की कुटलैहड़ से विवेक शर्मा और धर्मशाला से देवेंद्र जगी का नाम लगभग तय माना जा रहा है। वहीं सुजानपुर में कांग्रेस कुलदीप पठानिया को राजेंद्र राणा के सामने उतार सकती है। सुजानपुर में कुलदीप के अलावा पूर्व जिलाध्यक्ष नरेश ठाकुर और रविंद्र वर्मा का नाम भी टिकट दावेदारों की रेस में है, जबकि बड़सर, गगरेट और लाहौल स्पीति में कांग्रेस अभी असमंजस में है।

गगरेट में पूर्व विधायक राकेश कालिया और पूर्व प्रदेशाध्यक्ष कुलदीप कुमार के नाम की चर्चा है। जिला परिषद सदस्य रहे रमन जसवाल का नाम भी चर्चा में है। इन तीनों में से कांग्रेस किसी एक को प्रत्याशी बनाकर चैतन्य शर्मा के सामने उतार सकती है।

हमीरपुर जिला की बड़सर विधानसभा से पूर्व विधायक मंजीत सिंह डोगरा का नाम चर्चा में है। मंजीत डोगरा दो बार विधायक, एक बार वह इंडिपेंडेंट तो दूसरी बार कांग्रेस से चुनाव जीते हैं। मंजीत के अलावा ज्ञान चंद और संजीव शर्मा का नाम भी बड़सर से चर्चा में है। संजीव शर्मा पूर्व में BJP से बागी हो कर चुनाव लड़ चुके हैं। इनमें से किसी एक को कांग्रेस टिकट देकर पार्टी से बागी हुए तीन बार के विधायक इंद्रदत्त लखनपाल के सामने उतार सकती है।

लाहौल स्पीति में कांग्रेस पार्टी BJP के बागी डॉ. रामलाल मारकंडा को प्रत्याशी बना सकती है। BJP ने दो बार के मंत्री डॉ. मारकंडा का टिकट काटकर रवि ठाकुर को प्रत्याशी बनाया है। इससे मारकंडा ने खुले तौर पर बगावत का ऐलान कर दिया है। अब उनके कांग्रेस में शामिल होकर चुनाव लड़ने की चर्चा है। मारकंडा के अलावा पार्टी प्रवक्ता अनिल सहगल, जिला परिषद चेयरमैन अनुराधा राणा और पूर्व विधायक रघुवीर सिंह ठाकुर का नाम भी चर्चा में है।
दिल्ली में होने वाली मीटिंग में लोकसभा और विधानसभा टिकट पर अंतिम फैसला संभावित है। इस मीटिंग के लिए कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष प्रतिभा सिंह, हेल्थ मिनिस्टर धनीराम शांडिल, वरिष्ठ नेता कौल सिंह ठाकुर मुख्यमंत्री सुक्खू और डिप्टी सीएम मुकेश अग्निहोत्री शामिल होंगे।