…फिर नम हुई लोगों की आंखे: आस्था की बात को सुन ‘पिन ड्राप सायलेंट’ हुआ माहौल बोली बैठकों व कार्यक्रमों में मैं कभी भी ‘मां’ के बिना नहीं आई।

[google-translator]

…फिर नम हुई लोगों की आंखे: आस्था की बात को सुन ‘पिन ड्राप सायलेंट’ हुआ माहौल बोली बैठकों व कार्यक्रमों में मैं कभी भी ‘मां’ के बिना नहीं आई।

The Target News

ऊना । राजवीर दीक्षित

ऊना के हरोली कांग्रेस के एक प्रोग्राम में डॉ आस्था अग्निहोत्री की ‘स्पीच’ सुनकर माहौल एक बार फिर से भावुक हो गया।

आज हरोली कांग्रेस के एक प्रोग्राम में डिप्टी सीएम मुकेश अग्निहोत्री की बेटी डॉ आस्था अग्निहोत्री शामिल थी। स्टेज से उनका नाम बोले जाने के बाद वह नम आंखों के साथ थरथराते शब्दों के बीच अपनी बात को बोल पाई ।

प्रोग्राम में आस्था अग्निहोत्री ने मंच से कहा कि ऐसी बैठकों में व कार्यक्रमों में मैं कभी भी मां के बिना नहीं गई, पहली बार है कि हरोली की इस बैठक में मां के बिना आ रही हूं। उनकी यह बात सुनते ही माहौल ‘पिन ड्राप साइलेंट’ वाला हो गया।

देखें Video: नंगल के शिवालिक एवेन्यू में चेन स्नेचर को कुछ इस तरह किया गया काबू

आस्था अग्निहोत्री ने कहा कि करवा चौथ के कार्यक्रम में उनकी माता सिम्मी अग्निहोत्री ने जो शब्द कहे कि मेरा मायका भी यही हरोली है और ससुराल भी है, घर भी यह है,परिवार भी यही है और अंतिम सांस भी हरोली में लूं यही तम्मना मेरी है।

क्या पता था कि उनके वह शब्द ऐसे सच होकर के सामने आ जाएंगे ,उनकी बात को हम समझ ही नहीं पाए? और न ही गंभीरता से ले पाए? जिसके बाद प्रोग्राम का माहौल गमगीन हो गया।

➡️पूर्व कैबिनेट मंत्री के बेटे का वॉयरल Video देखने के लिए इस लिंक (लाइन) को क्लिक करें।

आस्था अग्निहोत्री ने कहा कि मां सिम्मी अग्निहोत्री ने जिस जज्बे के साथ काम किया, उनके मन में पीड़ा रहती थी, हरोली के लिए दर्द रहता था, हर काम हो इसके लिए वह चिंतित रहती थी। मैंने करीब से देखा है। उन्होंने कहा कि अभी भी वह लोकसभा चुनावों को देखते हुए आई है।

आस्था अग्निहोत्री ने कहा कि उनकी मोक्ष की प्राप्ति के लिए मैने पैदल यात्रा की, छठी कक्षा से लेकर हर वर्ग, हर उम्र के हरोली वासियों ने जिस प्रकार से इस यात्रा में अपनी सहभागिता दी, मेरी मां सिम्मी अग्निहोत्री के प्रति अपने स्नेह को दिखाया, मैं उसके लिए आप सब की ऋणी रहूंगी।

आस्था अग्निहोत्री ने कहा कि मेरे पिता मुकेश अग्निहोत्री की जो आज प्रदेश व देश में पहचान है उसके पीछे मेरी मां का समर्पण है। उन्होंने कहा कि हरोली वासी इस समय हमारी ताकत बने, स्नेह दिया।

उन्होंने कहा कि मैं प्रयास करूंगी की मां जैसा संयम व मां जैसी बनने का प्रयास करूंगी। बस आप सब का साथ और आशीर्वाद चाहिए। उन्होंने कहा कि आप सब हरोली वासी हमारे पास आते रहे आप सबका मान सम्मान बना रहेगा।