BBMB: “लागा चुनरी में दाग छिपाए कैसे” मंत्री हरजोत बैंस ने करोड़ो रुपए के ध्वस्त हुए ‘प्रोजेक्ट’ को लेकर कर दिया बड़ा ऐलान, जानें सारी खबर।

[google-translator]

The Target News

नंगल/चंडीगढ़ । राजवीर दीक्षित

पंजाब सरकार में तेजतर्रार युवा कैबिनेट मंत्री ने भाखड़ा ब्यास मैनेजमेंट बोर्ड व एक प्राइवेट एजेंसी के करोड़ो रुपए के फ्लोटिंग सोलर प्रोजेक्ट की विजिलेंस जांच का मामला उठाया है।

डायरेक्टर, सेंट्रल विजिलेंस विभाग, नई दिल्ली को लिखे पत्र में उन्होंने कई गंभीर लापरवाही का जिक्र करके ध्वस्त हुए प्रोजेक्ट के जांच की मांग भी की है।

मंत्री हरजोत बैंस ने शिकायत में लिखा है मेरा विधानसभा क्षेत्र श्री आनंदपुर साहिब जिला रूपनगर, पंजाब होने के कारण बीबीएमबी से मेरा सीधा सम्बन्ध है।

बीते दिनों नहला-ब्रह्मला सतलुज दरिया पर बीबीएमबी व प्राइवेट कंपनी का सयुक्त निर्माणाधीन सोलर पावर प्लांट ध्वस्त हुआ है। इस प्रोजेक्ट का उद्धघाटन हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने वर्चुअल तरीके से किया था।

सतलुज दरिया के ऊपर करीब 92 करोड़ की लागत से बनने वाले इस सोलर पावर फ्लोटिंग प्लांट का निर्माणधीन समय मे ही टूट जाना कोई छोटी घटना नही है। जांच होनी चाहिए कि इस कंपनी ने प्रोजेक्ट में इस्तेमाल होने वाला समान कितना ब्रांडेड खरीदा है।

उन्होंने कहा है कि नंगल बांध-भाखड़ा बांध-सतलुज नदी यह सब देश की राष्ट्रीय धरोहर संम्पति में आते है। यहां होने वाले तमाम प्रोजेक्टो के निर्माण व इसके रखरखाव को केंद्रीय एजेंसिया देखती है। किसी तरह की लापरवाही के बाद होने वाले हादसे से न केवल हमारे देश की साख पर इसका असर पड़ सकता है बल्कि कोई बड़ा हादसा हजारो-लाखों लोगों के जीवन को भी खतरे में डाल सकता है।

उन्होंने कहा है कि में यहां से बतौर विधायक व प्रदेश में कैबिनेट मंत्री के तौर पर लोगों की सेवा कर रहा हूं। आप से आग्रह है कि उक्त करोड़ो रुपए के प्रोजेक्ट के निर्माण के दौरान जांच की जाए कि इसे बनाने वाले SOP का कितना ध्यान रख रहे है।

इसके साथ साथ हमे जानकारी से अवगत करवाया जाए, की बीते दिनों प्रोजेक्ट के ध्वस्त होने से नुकसान कितना हुआ है।

उन्होंने कहा है कि आपके ध्यान में ला रहे है कि लोकसभा के चुनाव चल रहे है। बीबीएमबी व निजी कंपनी के निर्माणधीन संयुक्त प्रोजेक्ट के ध्वस्त होने से इलाके के लोग तमाम सचाई से अवगत होना चाहते है।

इस सारे घटनाक्रम में गलती किसकी है वह भी विजिलेंस जांच में स्पष्ट होना चाहिए। इसके इलावा उक्त प्रोजेक्ट का निर्माण अगस्त 2024 में पूरा होना था। अब इसमें कितना समय और ज्यादा लगेगा उस के बारे में भी जानकारी दी जाए।

आप अपने विभाग की किसी भी सीनियर टीम की ड्यूटी लगा सकते है जो हमे उक्त सारे घटनाक्रम की जानकारी विस्तार से बता सके।

कैबिनेट मंत्री के इस पत्र को लेकर बीबीएमबी प्रशासन में हड़कंप देखा जा सकता है।